काम की बात:  वॉट्सऐप अकाउंट की सेफ्टी की चिंता करें दूर, अपनाएं यह छह टिप्स

वॉट्सऐप एक ऐसा एप्लिकेशन है, जिसका इस्तेमाल हर पीढ़ी के यूजर्स करते हैं,  चाहे वह स्कूल जाने वाला बच्चा हो या 75 वर्षीय वरिष्ठ नागरिक 

सभी इसका इस्तेमाल करते हैं. हालांकि, कई बार कुछ क्रिमिनल लोग इसका  दुरुपयोग करने की कोशिश करते हैं और कमजोर और तकनीक की कम जानकारी रखने  वाले लोगों को निशाना बनाते हैं. 

ऐसे में हमने तकनीक के कम जानकारों की मदद करने के लिए इंस्टेंट मैसेजिंग  एप्लिकेशन में मौजूद कुछ टिप्स और ट्रिक्स की एक सूची तैयार की है 

जो इन लोगों की ऑनलाइन सुरक्षा सुनिश्चित करेगी. इनमें फॉरवर्ड मैसेज और फैक्ट चेकिंग मैसेज शामिल हैं.  

मैसेज को फॉरवर्ड करने से पहले दो बार सोचें वॉट्सऐप ने सभी फॉरवर्ड मैसेज के लिए एक लेबल बनाया है.  

वॉट्सऐप ने यूजर्स द्वारा मैसेज फॉरवॉर्ड करने की संख्या को सीमित कर दिया है 

ऐसे में हमें अपने घर के बिजुर्गों को इस बात के बारे में बताना चाहिए कि  यदि वे सुनिश्चित नहीं हैं कि सही है या वह मैसेज के सोर्स के बारे में  नहीं जानते तो उन्हें इसे फॉरवर्ड ना करें, क्योंकि इसमें फेक जानकारी हो  सकती है. 

फेक्ट चेकिंग मैसेज भारत में वॉट्सऐप पर 10 स्वतंत्र फेक्ट चेकर्स ऑर्गनाइजेशन हैं, जो यूजर्स  को जानकारी की पहचान करने, रिव्यू करने और वेरिफाई करने में मदद करती हैं.  

प्लेटफॉर्म पर गलत सूचना के प्रसार को रोकने में ये तरीके बड़े मददगार हो सकते हैं. 

टू स्टेप वेरिफिकेशन वॉट्सऐप यूजर्स को टू स्टेप वेरिफिकेशन फीचर को ऐनबल करके अपने खाते में सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ने की अनुमति देता है 

इसके लिए आपके वॉट्सऐप अकाउंट को रीसेट और वेरिफाई करते समय छह अंकों के पिन की आवश्यकता होती है. 

यह आपके पिता या किसी अन्य बुजुर्ग को उनके सिम कार्ड के चोरी हो जाने या उनके फोन से छेड़छाड़ होने की स्थिति में मदद करता है.