वन्दे भारत  एक्सप्रेस ट्रेन ट्रायल में 90 किमी की रफ्तार से दौड़ी ट्रेन

रेल यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर है। देश की तीसरी वंदे भारत ट्रेन बनकर तैयार है.  

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक ट्वीट में कहा कि तीसरी वंदे भारत ट्रेन का शुक्रवार को ट्रायल किया गया. 

यह ट्रेन 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी थी। पिछले हफ्ते ही रेल मंत्री ने इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नई (आईसीएफ-चेन्नई) में इसका निरीक्षण किया था। 

जांच में सही पाए जाने पर इसे ट्रायल के लिए चेन्नई लाया गया। रेल मंत्री ने कहा कि भारतीय रेलवे एक साल में 74 अतिरिक्त वंदे भारत ट्रेनों का निर्माण करेगा। 

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने ट्वीट कर बताया कि वंदे भारत को न्यू मोरिंडा और सनेहवाल के बीच 90 किमी की रफ्तार से चलाया गया है 

इससे पहले उन्होंने एक ट्वीट में बताया कि ट्रेन का 24 किमी के दायरे में 0-80 किमी पर परीक्षण भी किया गया है। 

वंदे भारत में क्या है खास   -स्वचालित उद्घाटन दरवाजे   -लोको पायलटों के संचालन के लिए चालक के केबिन में आरामदायक जगह 

-विकलांगों के अनुकूल शौचालय   -यात्रियों के लिए, ट्रेन में झुकी हुई कुर्सियाँ 

वंदे भारत ट्रेन का निर्माण इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नई (ICF-चेन्नई) में किया गया है, जहां पिछले सप्ताह ही रेल मंत्री द्वारा इसकी जांच की गई थी।  

ट्रेन की जांच से पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद इसे आरडीएसओ (रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड ऑर्गनाइजेशन) को सौंप दिया गया है

जो विभिन्न तरीकों से इसकी जांच करेगा. इसका ट्रायल अच्छे से लेकर बुरे तक हर ट्रैक पर किया जाएगा 

आपको बता दें कि भारतीय रेलवे अगले साल 15 अगस्त तक 75 नई वंदे भारत ट्रेनों को पटरी पर लाना चाहता है 

इसलिए इन ट्रेनों के निर्माण में काफी तेजी दिखाई जा रही है. रेलवे का लक्ष्य हर महीने 6-7 वंदे भारत ट्रेनें बनाने का है.