देश की सबसे बड़ी आईटी, यहां 6.16 लाख लोग काम करते हैं

रतन टाटा के नेतृत्व वाली देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) ने सोमवार को वित्त वर्ष 2022-23 की दूसरी तिमाही के नतीजों की घोषणा की।

त्योहारी सीजन में जारी नतीजों के मुताबिक कंपनी का मुनाफा सालाना आधार पर 8.4 फीसदी बढ़कर 10,431 करोड़ रुपये हो गया है.

टीसीएस के नतीजे जारी करते हुए उसने कहा कि चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में सेवाओं से उसकी कुल आय में 18 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई और यह बढ़कर 54,309 करोड़ रुपये हो गई।

वित्त वर्ष 2021-22 की इसी तिमाही में एक साल में यह आंकड़ा 46,867 करोड़ रुपये था। वहीं, कंपनी का शुद्ध लाभ भी 9,624 करोड़ रुपये रहा।

पीटीआई के मुताबिक, टीसीएस के ऑपरेटिंग मार्जिन में जुलाई-सितंबर तिमाही में गिरावट देखी गई है और यह 1.24 फीसदी की गिरावट के साथ 24 फीसदी पर है।

कंपनी ने मुनाफे का ऐलान करने के साथ ही अपने शेयरधारकों को लाभांश देने की भी घोषणा की है।

रिपोर्ट के मुताबिक टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज लिमिटेड अपने शेयरधारकों को 8 रुपये प्रति शेयर का अंतरिम लाभांश देगी।

कंपनी ने जुलाई-सितंबर तिमाही के नतीजों की घोषणा करते हुए यह जानकारी भी साझा की कि सितंबर तिमाही में उसने 9,840 कर्मचारियों को नौकरी दी है.

इसके साथ ही कंपनी में कुल कर्मचारियों की संख्या बढ़कर 6.16 लाख हो गई है।

हालांकि वित्त वर्ष 2022-23 की इस दूसरी तिमाही में कंपनी छोड़ने वाले कर्मचारियों की दर में भी इजाफा हुआ है।

तिमाही दर तिमाही आधार पर कंपनी की नौकरी छोड़ने की दर 19.70 प्रतिशत से बढ़कर 21.5 प्रतिशत हो गई है।

सप्ताह के पहले कारोबारी दिन दूसरी तिमाही के नतीजे घोषित होने से पहले ही टीसीएस के शेयरों में तेजी देखी गई।

शेयर बाजार में गिरावट के बीच भी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के शेयरों में तेजी जारी रही।