इलेक्ट्रॉनिक्स की मांग घटने से सैमसंग का मुनाफा 32 फीसदी घटा

बड़ी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों में सैमसंग के मुनाफे में जुलाई-सितंबर के दौरान करीब 32 फीसदी की गिरावट आई है

हालांकि विश्लेषकों को मुनाफे में गिरावट की उम्मीद थी। मंदी ने इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों और मेमोरी चिप्स की मांग को कम कर दिया है।

विश्लेषकों का कहना है कि बढ़ती मुद्रास्फीति, उच्च ब्याज दरें और यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध मांग को प्रभावित कर रहे हैं।

स्मार्टफोन, टेलीविजन और मेमोरी चिप्स के शीर्ष वैश्विक निर्माता सैमसंग के तिमाही नतीजे उपभोक्ता मांग में एक बड़ी कमजोरी का संकेत देते हैं।

कंपनी ने अपनी शुरुआती तिमाही नतीजों की रिपोर्ट में कहा कि उसका अनुमानित मुनाफा करीब KRW 10.8 लाख करोड़ (करीब 62,900 करोड़ रुपये) रह गया है।

कंपनी के तिमाही मुनाफे में साल-दर-साल आधार पर करीब तीन साल में यह पहली गिरावट है।

पिछले साल इसी अवधि में कंपनी का मुनाफा करीब 15.8 लाख करोड़ KRW (करीब 92,000 करोड़ रुपये) था।

कंपनियों और उपभोक्ताओं ने खर्च कम किया है। स्मार्टफोन और पर्सनल कंप्यूटर बनाने वाली कंपनियां नई खरीदारी बंद कर रही हैं

तीसरी तिमाही के दौरान कंपनी के कुछ DRAM मेमोरी चिप्स की कीमत में लगभग 14 प्रतिशत की कमी आई।

इन चिप्स का इस्तेमाल स्मार्टफोन और पर्सनल कंप्यूटर में किया जाता है। इसके अलावा डाटा स्टोरेज में इस्तेमाल होने वाले नंद फ्लैश चिप्स की कीमत में आठ फीसदी तक की कमी आई है।

सैमसंग के शेयर की कीमत इस साल करीब 30 फीसदी कम है। कंपनी शुक्रवार को तिमाही नतीजे घोषित करेगी।

पिछले महीने सैमसंग ने भारतीय बाजार में एक नया फ्रेम टीवी लॉन्च किया है। यह सैमसंग के सबसे बड़े टीवी मॉडल में शामिल है।

नई श्रृंखला में कई स्क्रीन आकार शामिल हैं। त्योहारी सीजन को देखते हुए कंपनी ने कई शानदार ऑफर्स भी पेश किए हैं।