आपके जेब में रखी नोट फिट है या अनफिट? कैसे करें पहचान? जानिए क्या कहता है RBI

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों से कहा है कि वे हर तिमाही में मशीनों  से नोटों की जांच करें, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि करेंसी नोट निर्धारित  पैरामीटर के अनुरूप हैं या नहीं। 

आरबीआई ने नोटों की स्थिति के लिए 11 मानक निर्धारित किए हैं और इसलिए  बैंकों को नोट सॉर्टिंग मशीनों के बजाय नोट फिट सॉर्टिंग मशीनों का उपयोग  करने का निर्देश दिया है। 

नोट सॉर्टिंग मशीन - ऑथेंटिकेशन एंड फिटनेस सॉर्टिंग पैरामीटर्स' सर्कुलर में आरबीआई ने कहा कि एक फिट नोट वह नोट है 

जो वास्तविक है और पर्याप्त रूप से साफ है, जिससे उसके मूल्य को आसानी से पता किया जा सके और रीसाइक्लिंग के लिए उपयुक्त हो 

वहीं, एक अनफिट नोट के बारे में आरबीआई ने कहा कि एक अनफिट नोट वह है, जो  अपनी फिजिकल कंडीशन के कारण रीसाइकिल करने के लिए उपयुक्त नहीं है 

या एक श्रृंखला से संबंधित है, जिसे भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा सिक्वेंस वाइज जारी किया जाता है। 

आरबीआई ने बैंकों को निर्देश दिया है कि वे नोट प्रोसेसिंग मशीन/नोट  सॉर्टिंग मशीन द्वारा समय-समय पर नोटों की प्रामाणिकता की जांच करेंगी। 

यह पूरे नोट में या कुछ भाग में गंदगी को दिखाता है। गंदी नोट, नोट की उम्र  और उसमें आए पीलेपन व नोट के बाहरी चिह्नों को दर्शाता है। 

नोट में आई सोइलिंग के कारण नोट को नुकसान पहुंचता है।