Railway Concession to Senior Citizen: सीनियर सिटीजंस को रेल टिकट में  फिर मिलेगी छूट, लेकिन बदलेंगे नियम! जानिए सरकार का नया नियम 

भारतीय रेलवे वरिष्ठ नागरिकों और खिलाड़ियों सहित अन्य श्रेणी के यात्रियों  के लिए रियायती टिकट सेवाओं को फिर से शुरू करने की योजना बना रहा है 

जिन्हें कोरोना काल के दौरान रोक दिया गया था।  दरअसल, आलोचना के बाद रेलवे  वरिष्ठ नागरिकों के लिए रियायतें बहाल करने पर विचार कर रहा है 

लेकिन संभव है कि यह सिर्फ सामान्य और स्लीपर कैटेगरी के लिए ही हो. 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सरकार आयु मानदंड जैसे अपने नियम व शर्तों में बदलाव कर सकती है.  

हो सकता है कि सरकार 70 साल से ऊपर के लोगों को रियायती किराया दे, जो पहले महिलाओं के लिए 58 साल और पुरुषों के लिए 60 साल था। 

सूत्र बताते हैं कि इसके पीछे मुख्य कारण वरिष्ठ नागरिकों के लिए सब्सिडी  बरकरार रखते हुए यह रियायत देकर रेलवे पर वित्तीय बोझ को समायोजित करना है। 

उल्लेखनीय है कि मार्च 2020 से पहले रेलवे वरिष्ठ नागरिकों के मामले में  महिलाओं को 50 प्रतिशत और पुरुषों को सभी वर्गों में यात्रा करने के लिए 40  प्रतिशत की छूट दे रहा था।  

रेलवे की ओर से यह रियायत पाने की न्यूनतम आयु सीमा वरिष्ठ महिलाओं के लिए 58 वर्ष और पुरुषों के लिए 60 वर्ष थी।   

लेकिन कोरोना काल के बाद उन्हें मिलने वाली सभी रियायतें खत्म कर दी गई हैं