मूंगफली खाते समय ये गलती न करें, वरना हो सकती है परेशानी 

मूंगफली हम में से कई लोगों की पसंदीदा है, जिनमें महात्मा गांधी भी शामिल  हैं। हम इन्हें पकाकर उबालते हैं और स्नैक्स और मिठाइयों में खाते हैं

मूंगफली विटामिन ई, सेलेनियम, फाइबर और जिंक से भरपूर होती है जो शरीर के लिए आवश्यक हार्मोन के उत्पादन में मदद करती है। 

रक्त परिसंचरण में सुधार और अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ त्वचा की सुंदरता  को बढ़ावा देना। तो हममें से ज्यादातर लोग जो गलती करते हैं वह है मूंगफली  खाना...  

भले ही हम बीज पर से पतली त्वचा को छील रहे हों। क्योंकि यह हमारे मुंह में थोड़ी कड़वी होती है।  

*मूंगफली के छिलके में कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो अच्छी सेहत के लिए और रोजाना जरूरी होते हैं। * रोगों से बचाव के लिए त्वचा में बायोएक्टिव्स, फाइबर...

* त्वचा में पॉलीफेनोल्स ... शरीर में मिल जाते हैं और त्वचा की रक्षा करते हैं। त्वचा को शुष्क बनाता है।

* मूंगफली के छिलके में ऐसे गुण भी होते हैं जो हृदय रोग, कैंसर और दिल के दौरे को रोकते हैं। * शोध से पता चला है कि भुनी हुई मूंगफली के छिलके में ब्लूबेरी से ज्यादा एंटी-टॉक्सिक गुण होते हैं।

*मूंगफली के छिलके में फाइबर... शरीर का वजन कम कर रहा है। * तस्वीर से पता चलता है कि 2012 के शोध से पता चला है कि भुनी हुई  मूंगफली की खाल में सामान्य मूंगफली की तुलना में अधिक एंटी-टॉक्सिक गुण  होते हैं।

* भुनी हुई मूंगफली में विटामिन सी और ग्रीन टी की तुलना में अधिक एंटीऑक्सीडेंट सामग्री होती है। 

* अंगूर और वाइन में रेस्वेराट्रोल नामक पदार्थ होता है। मूंगफली के छिलके का भी यही हाल है। इससे हमारे अंदर धैर्य बढ़ता है।  

शरीर में सूजन, सूजन और खुजली को कम करता है। हृदय रोग से बचाता है। अगर आप  इससे ज्यादा चाहते हैं तो आपको छिलके सहित उबली हुई मूंगफली खाना चाहिए।