ओला इंजीनियरिंग और ईवी मैन्युफैक्चरिंग में छंटनी की तैयारी कर रही है

ऐप के जरिए कैब सेवाएं मुहैया कराने वाली ओला ने इंजीनियरिंग की करीब 200 नौकरियों में कटौती करने का फैसला किया है।

जापान के सॉफ्टबैंक समूह द्वारा निवेशित ओला का कहना है कि वह एक एकीकृत मोबिलिटी कंपनी बनना चाहती है।

ओला टू व्हीलर, फोर व्हीलर और मैन्युफैक्चरिंग में अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए कमर कस रही है।

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश के कैब राइड मार्केट में बड़ा हिस्सा हासिल करने के लिए ओला ने उबर को पछाड़ दिया है।

कंपनी ने पिछले साल ई-स्कूटर का निर्माण शुरू किया था और 2024 तक इलेक्ट्रिक कार बनाने की भी योजना है।

ओला ने इस साल की पहली छमाही में शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने की अपनी योजना को टाल दिया था।

इसकी वजह बाजार में उतार-चढ़ाव और दूसरे स्टार्टअप्स की कमजोर लिस्टिंग थी।

पिछले महीने ओला इलेक्ट्रिक ने 2024 में देश में अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार लॉन्च करने की योजना बनाई थी।

इस कार की रेंज एक बार चार्ज करने पर 500 किमी से अधिक होने का दावा किया जा रहा है।

यह 4 सेकेंड में 0-100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने में सक्षम होगी। कंपनी ने पिछले साल ओला एस1 और एस1 प्रो इलेक्ट्रिक स्कूटर के लॉन्च के साथ ईवी सेगमेंट में कदम रखा था

ओला इलेक्ट्रिक के सीईओ भाविश अग्रवाल ने हाल ही में वर्ल्ड ईवी डे पर ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है

जिसमें कंपनी की अपकमिंग इलेक्ट्रिक कार की झलक दिखाई गई है। वीडियो में कार की डिजाइनिंग को दिखाया गया है

जिसमें कंप्यूटर और क्ले मॉडलिंग के जरिए कार का एक्सटीरियर स्ट्रक्चर बनाया जा रहा है।