शादी के एक साल बाद तक क्यों परेशान हैं नवविवाहित जोड़े? 

शादी का फैसला करना किसी भी व्यक्ति के लिए आसान नहीं होता है, जब लड़का और लड़की एक नए जीवन की शुरुआत कर रहे होते हैं

तो चुनौतियां आना लाजमी है और यही चुनौतियां तनाव का कारण बन जाती हैं।

शादी कई लोगों के जीवन में एक बड़े जोखिम की तरह होती है, वे लंबे समय तक इससे बचने की कोशिश करते हैं, लेकिन एक समय ऐसा आता है जब यह जोखिम उठाना पड़ता है

कहा जाता है कि शादी का पहला साल किसी भी शादीशुदा जोड़े के लिए आसान नहीं होता

इस बात में कोई शक नहीं है कि शादी के बाद लड़के और लड़की दोनों की जिंदगी पूरी तरह से बदल जाती है।

आपका जीवन आसान नहीं है और आप एक लापरवाह जीवन की आकांक्षा नहीं कर सकते।

शादी के बाद कपल की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं। आमतौर पर आर्थिक जिम्मेदारी लड़के पर और घर की जिम्मेदारी लड़की पर आती है।

ऐसे में पुरुष हर छोटे-बड़े खर्च को लेकर सतर्क हो जाते हैं, वहीं लड़की अपनी घरेलू जिम्मेदारियों को ठीक से निभाने की कोशिश करती है।

ऐसे में कई बार दोनों के व्यवहार में अंतर आ जाता है, लेकिन यह दोनों के लिए बदलाव का दौर है.

शादी से पहले किसी भी व्यक्ति का एक ही परिवार होता है, लेकिन शादी के बाद आपके जीवनसाथी का परिवार भी आपका हो जाता है।

ऐसे में नया परिवार दोनों के लिए आसान नहीं होता, हालांकि लड़की के लिए मुश्किलें और भी ज्यादा आती हैं

क्योंकि उसे अपने पति के फैसले से तालमेल बिठाने में समय लगता है. साथ ही पति कोशिश करता है कि वह भी अपने माता-पिता की तरह अपनी सास का सम्मान करे

ताकि पत्नी के साथ उसका सौहार्दपूर्ण संबंध बना रहे। ऐसे में 'क्या करें' और 'क्या नहीं करें' को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।