IRTC आपके डेटा से 1000 करोड़ रुपये कमाएगा, टेंडर जारी

दरअसल, इंडियन रेलवे की सब्सिडियरी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन ने इसके लिए आपका पर्सनल डेटा बेचना शुरू कर दिया है

इतना ही नहीं, आईआरसीटीसी आपके डेटा से 1000 करोड़ जुटाने की योजना बना रही है।

इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि, चल रहे इस टेंडर में कहा गया है कि आईआरसीटीसी एक कंसल्टेंट को हायर करेगा

जो उन्हें यूजर्स के डेटा को मोनेटाइज करने के तरीकों के बारे में सुझाव देगा. कंपनी ने कहा कि ग्राहक डेटा गोपनीयता का भी ध्यान रखा जाएगा।

दरअसल, भारतीय रेलवे के ज्यादातर टिकट आईआरसीटीसी के जरिए ही बुक किए जाते हैं।

लगभग सभी लोग ऑनलाइन टिकट के लिए आईआरसीटीसी का इस्तेमाल करते हैं।

तदनुसार, वर्तमान में, कंपनी की वेबसाइटों पर उपयोगकर्ताओं के डिजिटल डेटा की एक बड़ी मात्रा है। अब कंपनी इस डेटा का इस्तेमाल कर 1000 करोड़ रुपये कमाने जा रही है।

आपको बता दें कि इसके तहत आईआरसीटीसी ट्रैवलिंग पैटर्न, हिस्ट्री और लोकेशन से जुड़ा डेटा शेयर करेगी।

लेकिन यूजर्स को इससे घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि ऐसा करते वक्त भी यूजर्स की बैंकिंग प्राइवेसी आईटी एक्ट के तहत शेयर नहीं की जाएगी।

यानी आपके डेटा की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा. डेटा मॉनेटाइजेशन के तहत यूजर्स के बैंक और ट्रांजैक्शन डेटा को बिल्कुल भी शेयर नहीं किया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आईआरसीटीसी आपके डेटा का इस्तेमाल किस तरह करेगा, इस बारे में अभी कोई जानकारी साफ तौर पर सामने नहीं आई है.

कंपनी का कहना है कि वह इस तरह से उपयोगकर्ता अनुभव में सुधार करना चाहती है, और तीसरे पक्ष के साथ डेटा साझा करके पैसा कमाएगी