श्रीलंका नेवी इंडिया: श्रीलंका का 'धोखा' पर भारत ने निभाई दोस्ती... विक्रमसिंघे ने किया चीन-पाक दोस्ती पर पछतावा?

मोदी सरकार ने एक बार फिर श्रीलंका के साथ मैत्रीपूर्ण व्यवहार किया है,  जिसने चीन और पाकिस्तान से जहाजों को अनुमति देकर भारत के साथ उसकी दोस्ती  को भंग कर दिया है

श्रीलंका ने भले ही विश्वासघात किया हो लेकिन भारत ने आज अपने स्वतंत्रता  दिवस पर डोर्नियर 228 समुद्री निगरानी विमान देने का अपना वादा पूरा किया।

खास बात यह है कि इस कार्यक्रम के दौरान खुद श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे भी मौजूद थे।

इससे पहले श्रीलंका ने चीनी जासूसी जहाज युआन वांग 5 और पाकिस्तानी  युद्धपोत पीएनएस तैमूर को भारतीय आपत्तियों के बावजूद लंगर डालने की अनुमति  दी थी।

यह भारतीय विमान अगले दो साल तक श्रीलंकाई नौसेना के पास रहेगा।  इसके बाद  श्रीलंका के लिए एक नया विमान बनकर तैयार होगा और दोबारा सौंपा जाएगा।  

इससे पहले 2018 में श्रीलंका ने भारत से दो डोर्नियर विमान खरीदने की इच्छा जताई थी।

श्रीलंका में इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे और भारतीय उच्चायुक्त गोपाल बागले मौजूद थे।  

श्रीलंका को विमान सौंपने के लिए भारतीय नौसेना के वाइस चीफ वाइस एडमिरल सतीश एन घोरमडे भी मौजूद थे।

एयरटेल भारत का एकमात्र ऐसी पुरानी प्राइवेट कंपनी है जो अपने ग्राहकों के सबसे सस्ता एवं बेहतर सुविधा प्रदान करवाती है