गूगल का बड़ा एक्शन, प्ले स्टोर से हटाए 2000 इंस्टेंट लोन ऐप्स

Google ने इस साल जनवरी से जून के बीच ग्राहकों को तत्काल ऋण सेवा प्रदान करने वाले 2,000 से अधिक ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है।

हालांकि कंपनी ने चीन से जुड़े ऐप्स पर नकेल कसने पर कोई खास ध्यान नहीं दिया। मित्रा ने कहा कि वह जो प्रतिबंध लगाते हैं उनमें डेटा मूल्यांकन शामिल है

जो वह खुद एकत्र करते हैं। इस डेटा में फोन कॉल पर तत्काल ऋण प्रदाताओं द्वारा किए गए ग्राहक उत्पीड़न का विवरण शामिल है।

मित्रा ने कहा कि उन्होंने जनवरी से अब तक इंडिया प्ले स्टोर से 2000 से ज्यादा लोन ऐप हटा दिए हैं।

यह कार्रवाई लीड और इनपुट प्राप्त करने, नीति के उल्लंघन, प्रकटीकरण की कमी और गलत सूचना प्राप्त करने के लिए की गई थी

उन्होंने बताया कि कंपनी कुछ और नीतिगत बदलाव करने जा रही है, जो जल्द ही सामने आएंगे।

मित्रा ने कहा कि हम इंस्टेंट लोन ऐप्स के लिए प्ले स्टोर पर जो नीति लागू करते हैं, वह भारतीय नियमों के अनुरूप है।

हम इस क्षेत्र में अपने स्वयं के नियमों को लागू नहीं करते हैं। गौरतलब है कि Google का यह कदम इंस्टेंट लोन ऐप्स द्वारा धोखाधड़ी की शिकायतों के बाद आया है

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने इस मामले का संज्ञान लिया और दिसंबर 2020 में मोबाइल ऐप स्टोर पर इंस्टेंट लोन ऐप के बारे में उपभोक्ता शिकायतों की बढ़ती मात्रा के कारण अनधिकृत इंस्टेंट लोन ऐप्स के खिलाफ एक एडवाइजरी जारी की।

Google ने RBI की सलाह के बाद पिछले साल जनवरी में भारत में अपने Play Store 30 इंस्टेंट लोन ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया था।

तब से कई राज्य और राष्ट्रीय सरकारी संस्थाओं ने Google को अपने भारतीय ऐप स्टोर से डिजिटल ऋण ऐप पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह करते हुए नोटिस दायर किया है।