चीन ने किया वो काम जिसने अमेरिका को दिया टेंशन! ये है अगले 10 साल की तैयारी

चीन हर क्षेत्र में अमेरिका को चुनौती दे रहा है, तो विज्ञान का क्षेत्र क्यों पिछड़ जाए।

अगले 10 सालों में चीन चांद पर तीन मानवरहित मिशन शुरू करने की योजना बना रहा है।

गौरतलब है कि इस दौरान अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी अपने कई मून मिशन लॉन्च करेगी, हालांकि अभी इसका आर्टेमिस 1 मिशन लॉन्च नहीं हुआ है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने कहा है कि उसने अपने चांग'ए-5 मिशन के सैंपल के जरिए एक नए चंद्र खनिज की खोज की है।

इसे चेंजसाइट- (वाई) नाम दिया गया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने इसे एक तरह के रंगहीन पारदर्शी क्रिस्टल के रूप में वर्णित किया था।

कहा जाता है कि इसमें हीलियम-3 होता है, जो एक आइसोटाइप है और जिसे भविष्य की ऊर्जा का स्रोत माना जाता है।

अंतरिक्ष में चीन के बढ़ते कदमों ने दुनिया भर की अंतरिक्ष एजेंसी के लिए चुनौती पेश कर दी है।

चीन ने अंतरिक्ष में अपनी महत्वाकांक्षाएं बढ़ा दी हैं। वह अपनी जांच चंद्रमा पर भेज रहा है।

यह अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन बना रहा है और मंगल पर मिशन को भी तेज कर रहा है।

इससे इसका सीधा मुकाबला नासा और अमेरिका से है। नासा के पास मंगल ग्रह पर भी कई मिशन हैं।

नासा का एक रोवर इस समय लाल ग्रह पर मौजूद है। इस दशक के अंत तक नासा एक बार फिर अंतरिक्ष यात्रियों को चांद पर उतारना चाहता है।

इसके लिए उन्होंने आर्टेमिस मिशन तैयार किया है। हालांकि, यह मिशन अभी तक शुरू नहीं हुआ है और पहले लॉन्च को दो बार टाला जा चुका है।