इन महिलाओं को माना जाता है पुरुषों के लिए अशुभ, जानिए कैसे करें पहचान

किसी भी पुरुष के जीवन में नारी ईश्वर की देन होती है। जो जीवन को सफल बना सकता है, लेकिन शास्त्र कहते हैं कि स्त्री को कोई नहीं समझता।

भारत में नारी को देवी का रूप माना जाता है। वह कोमल, कोमल, सुंदर, धैर्यवान है।

चाणक्य का कहना है कि स्त्री देवी के समान होती है, उसका हर कदम परिवार की बेहतरी के लिए होता है, वह समाज में परिवार के सम्मान की रक्षा करती है।

लेकिन कभी-कभी एक महिला अपनी हीन भावना के कारण अपने परिवार और अपने स्वाभिमान को ताक पर रख देती है

चाणक्य नीति के अनुसार, महिलाओं को उनके चेहरे, उनके आचरण, उनके विचारों, उनके शरीर संरचना के आधार पर जाना जा सकता है।

आपके साथ किस तरह की महिला है, एक तरफ एक महिला को देवी माना जाता है, और ऐसे कारणों से ऐसी महिलाएं नफरत का कारण बनती हैं।

चाणक्य नीति के अनुसार जिस स्त्री की छोटी उंगली या उसके साथ वाली उंगली पृथ्वी को नहीं छूती है।

अंगूठे वाली उंगली लंबी होती है, ऐसी महिलाएं परिस्थितियों और परिस्थितियों के अनुसार अपना चरित्र बदलती हैं।

ऐसी महिलाएं स्वभाव से बहुत गुस्से वाली होती हैं। जिन पर काबू पाना मुश्किल होता है, उन पर कभी भरोसा नहीं किया जा सकता।

इसके विपरीत यदि पैरों का पिछला भाग बहुत पतला हो तो ऐसी स्त्री का पेट घड़ी के समान हो तो उसे जीवन में बहुत दुखों का सामना करना पड़ता है।

यदि ऐसा होता है तो स्त्री अपना पूरा जीवन दरिद्रता और दरिद्रता में व्यतीत करती है, यदि स्त्री का पेट अधिक समय तक गद्देदार रहे तो यह अपशकुन की निशानी है

यदि ललाट का माथा लंबा हो तो ऐसी स्त्री अपने भाई-बहन के लिए अशुभ होती है। -कानून।

जिन महिलाओं का पेट लंबा होता है, कमर का निचला हिस्सा जितना उनके ससुर के लिए भारी होता है

वह अपने पति के पास जाती है, जिन महिलाओं के होठों के ऊपरी हिस्से पर अधिक बाल होते हैं, वे अपने पति के लिए अशुभ मानी जाती हैं।

जिन महिलाओं के कानों में बहुत अधिक बाल होते हैं, उनका आकार एक जैसा नहीं होता, ऐसी महिलाओं के घर में दुख होता है, मोटे लंबे चौड़े दांत निकलते हैं।