चाणक्य नीति : इन पर बैठने से व्यक्ति का होता है नाश, न घर का रहता है न घट का

आचार्य चाणक्य का नीति शास्त्र लोगों को जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित करता है।

आचार्य चाणक्य के अनुसार जीवन में सफलता पाने के लिए सभी को संघर्ष करना पड़ता है।

कुछ लोगों को इसमें सफलता मिलती है और कुछ लोग इसमें असफल हो जाते हैं। आचार्य चाणक्य ने अपनी नैतिकता में एक सफल जीवन जीने के कई तरीके बताए हैं।

आचार्य चाणक्य का कहना है कि जो व्यक्ति जीवन में आगे बढ़ना चाहता है, उसके लिए वह कड़ी मेहनत करता है।

लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो बिना मेहनत के सफलता पाना चाहते हैं। आचार्य ने लोगों से इन बातों पर कभी भरोसा न करने को कहा है।

चाणक्य नीति के अनुसार जो लोग किसी भी विपत्ति का चतुराई से सामना करते हैं। वह व्यक्ति हमेशा खुश रहता है।

इसके विपरीत जो व्यक्ति यह सोचकर बैठा रहता है कि भाग्य में जो लिखा है, वही होगा। ऐसा व्यक्ति कयामत होता है और अंत में उसे दुख होता है।

आचार्य चाणक्य कहते हैं, जो व्यक्ति अपने कर्म पर नहीं, बल्कि अपने भाग्य पर विश्वास करता है

वह जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ता। आगे बढ़ने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। किस्मत से कुछ नहीं होता।

आचार्य चाणक्य के अनुसार, सही आचरण वाली महिला परिवार और समाज को आगे बढ़ाती है,

जबकि बुरी प्रवृत्ति वाली महिलाएं बेहद खतरनाक होती हैं, ऐसी महिलाओं पर कभी भी भरोसा नहीं करना चाहिए।