स्वार्थी और धोखेबाज लोगों से दूर रहें, तुरंत जाने उन लोगो को, यह है तरीका जाननेका 

घुमा कर बात करने वालों से दूर   चाणक्य के अनुसार जिन लोगों को इधर-उधर घूमने की आदत होती है उनके मन में चोर होता है।  

वो लोग आपके सामने और आपकी पीठ पीछे अलग-अलग काम करते हैं।  ऐसे में ऐसे  लोगों से हमेशा दूर रहना चाहिए।  उन पर भरोसा करना आपको मुश्किल में डाल  सकता है। 

जबकि साफ-सुथरे और सीधे-सादे लोग कड़वी बातें जरूर कहेंगे, लेकिन उन्हें आपसे किसी भी तरह की नफरत या दुश्मनी नहीं है। 

ऐसे लोग आपको हमेशा मुश्किलों से बाहर निकालेंगे और विपरीत परिस्थितियों में भी आपका साथ देंगे।  

जब कोई बार-बार बहाना बना रहा हो   आचार्य चाणक्य के अनुसार पैसा ऐसा है जो अच्छे रिश्तों को भी बर्बाद कर देता है। 

ऐसे में जालसाज जरूरत के नाम पर आपसे उधार मांगते हैं, लेकिन भुगतान के वक्त झिझकते हैं। 

वे आपको वापस भुगतान न करने के उद्देश्य से आपकी उपेक्षा भी करने लगते हैं

ऐसे लोगों को तुरंत पहचानें और समय रहते उनसे छुटकारा पाएं, नहीं तो ऐसे लोग आपके लिए कभी भी परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

जो समय आने पर काम नहीं आते  चाणक्य के अनुसार जब आपको मदद की सबसे ज्यादा जरूरत हो और जो व्यक्ति आपके साथ होने का दावा करता है 

वह हमेशा आपकी मदद करने से इंकार करता है तो समझ लें कि वह आपका शुभचिंतक  नहीं हो सकता।  ऐसे लोग मुसीबत में कभी आपका साथ नहीं देंगे।   

वे स्वार्थी और धोखेबाज लोग केवल अपने कल्याण के बारे में सोचते हैं, ऐसे लोगों को छोड़ना आपके लिए बुद्धिमानी है।