इंसान का स्वभाव जानने के लिए जीवन में हमेशा याद रखें ये 5 बातें

आचार्य चाणक्य बताते हैं कि महज 10 सेकेंड में आप सामने वाले का असली चेहरा पहचान सकते हैं।

इसके लिए समुद्र विज्ञान की लिखित विधियों का उपयोग किया जा सकता है।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि शुद्ध सोने की पहचान करने के लिए इसे पहना जाता है, रगड़ा जाता है, तोड़ा जाता है और गर्म किया जाता है।

इसी तरह बुरे वक्त में दोस्त की पहचान होती है। एक सच्चा मित्र श्री कृष्ण की तरह ही युद्ध के मैदान में आपका साथ देगा।

आचार्य चाणक्य का कहना है कि एक आदर्श पत्नी की परीक्षा तब होती है जब उसके पास पैसे खत्म हो जाते हैं।

उदाहरण के लिए, माता सीता ने हर स्थिति में भगवान राम का साथ दिया। उनके साथ रानी होने के बावजूद उन्हें वनवास का सामना करना पड़ा।

वह एक आदर्श पत्नी थीं। जबकि मतलबी पत्नी अपने पति को पैसे खत्म होने के बाद छोड़कर भाग जाती है।

चाणक्य नीति के अनुसार सांपों से भरे घर में क्रोधी पत्नी, कपटी मित्र और देशद्रोही सेवक से हमेशा दूर रहें, ये सब आपके जीवन को बर्बाद कर सकते हैं और आपका जीवन समाप्त कर सकते हैं।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि आपको कभी भी उन पर भरोसा नहीं करना चाहिए जो आपके माता-पिता से झूठ बोलते हैं।

क्योंकि जो माता-पिता को धोखा देता है वह आपको धोखा भी दे सकता है।

सामने मीठी-मीठी बातें करने से ऐसे लोग मन ही मन आपको बर्बाद करने की सोचते हैं। इसलिए ऐसे लोगों से दूर रहें।

चाणक्य नीति के अनुसार सच्चा प्रेमी वही होता है जो प्रेम के लिए सब कुछ कुर्बान करने को तैयार रहता है।

उदाहरण के लिए, एक काली मधुमक्खी सबसे मोटी लकड़ी में भी घुस सकती है

लेकिन जब वह कमल के अंदर होती है, तो वह बिल्कुल शांत रहती है और कमल को नुकसान नहीं पहुंचाती है।

आचार्य चाणक्य बताते हैं कि चंदन को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटने के बाद भी इसकी महक कम नहीं होती है।