आईफोन के बाद अब भारत में भी बनेंगे एपल के एयरपॉड्स और हेडफोन्स

अपने iPhone के बाद Apple अब अपने और भी प्रोडक्ट्स भारत में बनाने की सोच रहा है

जो एक बड़ा कदम है. माना जा रहा है कि चीन के अलावा एपल भारत को अपने प्रमुख मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर के तौर पर देख रही है

चीन में कोरोना वायरस के चलते सख्त लॉकडाउन नीति और अमेरिका के साथ तनाव के चलते कंपनी चीन पर अपनी निर्भरता कम करना चाहती है

निक्केई एशिया के मुताबिक, एपल पहली बार भारत में एयरपॉड्स और बीट्स का निर्माण करने जा रही है।

कंपनी अगले साल की शुरुआत में भारत में एयरपॉड्स और बीट्स हेडफोन का निर्माण शुरू करेगी, जिसके लिए वह आपूर्तिकर्ताओं के साथ बातचीत कर रही है।

भारत में मैन्युफैक्चरिंग को स्थानांतरित करने का Apple का निर्णय उसकी व्यावसायिक रणनीति का हिस्सा है क्योंकि इसका उद्देश्य आपूर्तिकर्ता की समस्याओं और चीन पर निर्भरता को कम करना है।

इलेक्ट्रॉनिक्स की दुनिया की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर फॉक्सकॉन भारत में एपल की सबसे बड़ी पार्टनर रही है।

अब यह कंपनी इस नए प्रोजेक्ट में फिर से Apple को सपोर्ट करने जा रही है। फॉक्सकॉन देश में बीट्स हेडफोन का निर्माण करेगी और बाद में एयरपॉड्स भी बना सकती है।

आपको बता दें कि फॉक्सकॉन भारत में 2015 से मौजूद है। इसकी फैक्ट्रियां आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में हैं।

लक्सशेयर प्रेसिजन इंडस्ट्रीज और सहयोगी कंपनियों ने भारत में एयरपॉड्स के निर्माण में रुचि दिखाई है। कंपनी इसे पहले से ही वियतनाम में प्रोड्यूस कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक लक्सशेयर फिलहाल अपने वियतनाम बिजनेस पर ज्यादा फोकस कर रही है।

इसका मतलब है कि अन्य कंपनियों की तुलना में भारत में AirPods का निर्माण शुरू करने में देरी हो सकती है।

भारत में AirPods और Beats हेडफ़ोन बनाने का Apple का निर्णय सरकार की मजबूत नीति को दर्शाता है।