4G से कितनी अलग है 5G तकनीक, क्या आप भी जानते हैं ये बड़ी बातें

5जी टेक्नोलॉजी को लॉन्च करने की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। रिलायंस जियो और एयरटेल जैसी टेलीकॉम जगत की बड़ी कंपनियों ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

सरकार ने इसके लॉन्च की तैयारी भी कर ली है और अक्टूबर तक इसकी शुरुआत हो सकती है.

5जी टेक्नोलॉजी के आने के बाद हमारी लाइफस्टाइल पर भी काफी असर पड़ेगा।

भारत में बहुत से लोग 5G तकनीक का इंतजार कर रहे हैं और इतना ही नहीं टेलीकॉम कंपनियों ने भी अपनी पूरी तैयारी कर ली है.

जल्द ही कंपनियां 5जी के तहत आने वाले प्लान पेश करेंगी। कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि 5जी की कीमत 4जी से ज्यादा हो सकती है।

4G और 5G तकनीक में सबसे बड़ा अंतर विलंबता का है। विलंबता नेटवर्क पर प्रतिक्रिया करने का समय है

जो डिवाइस और नेटवर्क के बीच बनाया गया है। 5G तकनीक में बहुत कम विलंबता होती है, जिसे लगभग 5 मिलीसेकंड कहा जाता है।

वहीं, 4जी तकनीक की लेटेंसी 20 मिलीसेकंड से लेकर 10 मिलीसेकंड तक हो सकती है। ऐसे में डिवाइस कम लेटेंसी की वजह से तेजी से प्रतिक्रिया देंगे।

डाउनलोड स्पीड बढ़ेगी: 4जी के मुकाबले 5जी की डाउनलोड स्पीड काफी तेज होगी।

इसे एक उदाहरण के रूप में लें, तो 4G की स्पीड 1 Gbps तक पहुंच सकती है। जबकि 5जी की अधिकतम स्पीड 10 जीबी प्रति सेकेंड तक पहुंच सकती है।

कनेक्टिविटी होगी बेहतर: नेटवर्क कनेक्टिविटी की बात करें तो 4जी के मुकाबले 5जी का नेटवर्क कवरेज कम होगा।